ईरान पर इजराइल का हमला; परमाणु सुविधाओं पर F-35 से बम हमला

0

तेहरान: ईरान पर इजराइल का हमला। इजरायल और ईरान में सायबर हमले तेज हो गए हैं। इजरायल ने ईरान की परमाणु सुविधाओं पर दो सायबर हमले किए हैं। इसमें एक यूरेनियम संवर्धन केंद्र और दूसरा मिसाइल विकास स्थल है। इतना ही नहीं, इजरायल ने अपने घातक एफ -35 लड़ाकू जेट विमानों की मदद से ईरान के पर्चिन में एक मिसाइल निर्माण स्थल पर कथित तौर पर हमला किया है।

कुवैती अखबार अल जरीदा के अनुसार, यह घटना पिछले सप्ताह हुई थी। गुरुवार को एक इजरायली सायबर हमले ने ईरान के नतांज परमाणु ऊर्जा संयंत्र में आग लगा दी और जोरदार विस्फोट हुआ। यह केंद्र पूरी तरह से भूमिगत है। सूत्रों के मुताबिक, हमले से ईरान को भारी झटका लगा है और उसके परमाणु कार्यक्रम में दो महीने की देरी हुई है।

ईरान पर इजराइल का हमला

अल जरीदा के अनुसार, पिछले हफ्ते शुक्रवार को एक इजरायली एफ -35 स्टील्थ फाइटर जेट ने पर्चिन इलाके में एक ईरानी साइट पर हमला किया था। इस साइट को मिसाइल उत्पादन स्थल माना जाता है। इजरायल ने ईरान पर अपनी मिसाइलों और हथियारों को लगातार अपडेट करने का आरोप लगाया है। ये हथियार, मिसाइलें इजरायल विरोधी समूहों को आपूर्ति कर रही थीं।

इजरायल की मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, इजरायली सरकार ने हमले की पुष्टि नहीं की है। प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने कथित तौर पर यह भी कहा कि वह इस मुद्दे पर नहीं बोलना चाहते हैं। ईरानी अधिकारियों ने भी कहा कि परमाणु स्थलों पर आग एक “दुर्घटना” थी। घटना की जांच चल रही है और ईरानी सैन्य अधिकारियों ने कहा है कि अगर हमले की बात सामने आती है तो वे इसका जवाब देंगे। कुछ रिपोर्टों के अनुसार, ईरान ने इज़राइल की जल आपूर्ति प्रणाली को हैक करने की कोशिश की थी। इस हमले को इजरायल ने पूरी तरह नाकाम कर दिया था । अगर ईरान सफल हो जाता, तो पानी में क्लोरीन का स्तर खतरनाक स्तर तक बढ़ जाता और इजरायल में पानी का संकट पैदा
हो जाता।

इस बीच, पिछले कुछ महीनों में ईरान और संयुक्त राज्य अमेरिका के बीच तनाव बढ़ गया है। अमेरिका ने ईरान पर परमाणु कार्यक्रम को आगे बढ़ाने का आरोप लगाया है। यही वजह है कि दोनों देशों में विरोध बढ़ गया है । जनवरी में ड्रोन हमले में सुलेमानी के मारे जाने के बाद ईरान ने जवाबी कार्रवाई करने की कसम खाई थी। इसके अलावा, इराक में अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर रॉकेट दागे गए। हमले में कई अमेरिकी सैनिक घायल हो गए। तब से दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया था। यह तनाव था जो ईरान से यूक्रेनी यात्री विमान को गिराया गया । सुलेमानी की हत्या के बाद संयुक्त राज्य अमेरिका और ईरान के बीच तनाव बढ़ गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here