कोरोना ट्रॅकिंग ऐप ‘आरोग्य सेतु’ लॉन्च

0
कोरोना ट्रकिंग ऐप 'आरोग्य सेतु' लॉन्च

नई दिल्ली: भारत सरकार ने कोरोना के बारे में लोगों को सही और सटीक जानकारी देने के लिए आधिकारिक रूप से नया ऐप ‘आरोग्य सेतु’ लॉन्च किया है। इसका उपयोग एंड्रॉइड और आईओएस दोनों उपयोगकर्ताओं द्वारा किया जा सकता है। इसे इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र द्वारा बनाया गया है। न केवल यह ऐप उपयोगकर्ता को कोरोना वायरस या कोविद -19 के बारे में अचूक और सटीक जानकारी देगा, बल्की यह उन्हें कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से भी रोकेगा।

ऐप कैसे काम करता है …

ऐप में एक चैटबॉट भी है, जिसमें उपयोगकर्ता कोरोना महामारी से संबंधित सभी सवालों के जवाब पाएंगे। इस ऐप का उपयोग करते हुए, ऐप यह भी बता सकता है कि क्या उपयोगकर्ता गलती से एक कोरोना संक्रमण के संपर्क में है। इसके आधार पर यह उपयोगकर्ता को अगला कदम उठाने की सलाह देगा। यदि उपयोगकर्ता ‘हाई रिस्क’ क्षेत्र में आता है, तो ऐप उसे कोरोना वायरस का परीक्षण करने, हेल्पलाइन पर कॉल करने और निकटतम स्वास्थ्य केंद्र पर जाने की सलाह देगा। ऐप को इसके लिए कोरोना पीड़ितों के डेटाबेस से जोड़ा गया है। हालांकि, यह ऐप धीरे-धीरे अपना खुद का डेटाबेस बनाएगा। यह ऐप न केवल उपयोगकर्ताओं को महामारी से बचने के लिए सुझाव देता है, बल्कि संक्रमण के मामले में सरकार को जानकारी भी देता है।

Screenshot ImageScreenshot ImageScreenshot ImageScreenshot Image

11 भाषाओं का सपोर्ट करता है …

कोरोना ट्रैकर ऐप ‘आरोग्य सेतु’ वर्तमान में हिंदी और अंग्रेजी सहित 11 भाषाओं में काम करता है। यह ब्लूटूथ और लोकेशन को एक्सेस करके काम करता है। इसका उपयोग करने के लिए, उपयोगकर्ता को पहले ऐप में मोबाइल नंबर के साथ पंजीकरण करना होगा। ऐप फिर उपयोगकर्ता से कुछ निजी जानकारी मांगेगा जो वैकल्पिक है। गोपनीयता की बात करें तो, सरकार का दावा है कि ऐप की सभी महत्वपूर्ण जानकारी एन्क्रिप्टेड रूप में संग्रहीत की जाएगी और किसी भी तीसरे पक्ष के विक्रेता के साथ साझा नहीं की जाएगी।

आप स्वास्थ्य मंत्रालय के लाइव ट्वीट भी देख पाएंगे …

जब ऐप होम स्क्रीन पर पहुंचता है, तो यह उपयोगकर्ता को बताएगा कि वे सुरक्षित स्थान पर हैं या नहीं। Android उपयोगकर्ता स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा लाइव ट्वीट भी देख सकते हैं। हालांकि, एंड्रॉइड और ऐप्पल दोनों संस्करणों में लगभग समान विशेषताएं होंगी, जिसमें कोरोना से जुड़ी सलाहकार भी शामिल हैं।

पिछले सप्ताह की रिपोर्टों के अनुसार, नीति आयोग कोरोना ट्रैकर ऐप पर भी काम कर रहा है, जिसका नाम कोव्हिन-20 है। नेक्स्टवेब आरोग्य सेतु ऐप कोविन -20 का अंतिम संस्करण होगा । इसके अलावा, कई राज्य सरकारों ने कोरोना ट्रैकिंग ऐप लॉन्च किया है। ताकि लोग सतर्क रह सकें और वायरस से जल्द से जल्द लड़ सकें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here