निफ़्टी में 10% का लोअर सर्किट लगा ; ट्रेडिंग को 45 मिनट रोकना पड़ा

0
80
निफ़्टी में 10% का लोअर सर्किट लगा ; ट्रेडिंग को 45 मिनट रोकना पड़ा

निफ़्टी में 10% का लोअर सर्किट लगा ; ट्रेडिंग को 45 मिनट रोकना पड़ासर्किट ब्रेकर: एक्सचेंज ने 02 जुलाई, 2001 से सेबी के दिशानिर्देशों के आधार पर इंडेक्स-आधारित मार्केट-वाइड सर्किट ब्रेकर्स को लागू किया है।

इंडेक्स-आधारित मार्केट-वाइड सर्किट ब्रेकर सिस्टम इंडेक्स मूवमेंट के 3 चरणों में लागू होता है, अगर इंडेक्स किसी तरह से 10%, 15% और 20% पर गिर जाता है । जब एन एस ई ने एक नोट में कहा कि ये सर्किट ब्रेकर सभी इक्विटी और इक्विटी डेरिवेटिव मार्केट में एक समन्वित ट्रेडिंग पे लागु होता है । अगर इसप्रकार के सर्किट लगते है तो बाजार को दिए गए समय सिमा के लिए रोक दिया जाता है।

अगर बाजार में सेंसेक्स या निफ़्टी अदोनोमे कोई भी पहले अपने लोअर या अप्पर सर्किट को तोड़ता है तो इंडेक्स-आधारित मार्केट-वाइड सर्किट ब्रेकर्स को लागू किया जाता है।

निफ्टी 50 ने फरवरी 2017 के बाद पहली बार 3 साल के निचले स्तर पर 8,800 का स्तर तोड़ दिया। एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स शुक्रवार को 3 साल के निचले स्तर पर पहुंचने के लिए 3,000 से अधिक अंक गिर गया।

भारतीय रुपया शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में गिर गया। यह पिछले बंद 74.23 के मुकाबले 17 पैसे कम होकर 74.40 प्रति डॉलर पर बंद हुआ।

आज बाजार खुलतेहि निफ़्टी ने अपने लोअर सर्किट को छू लिया इसके कारन ट्रेडिंग को नियमानुसार 45 मिनट के लिए रिक दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here