Warning: A non-numeric value encountered in /home/customer/www/sabkuchhindihai.com/public_html/wp-includes/functions.php on line 74
रेलवे निजीकरण की पटरियों पर ; निजी ट्रेन सेवा के लिए प्रस्ताव आमंत्रित - रेलवे निजीकरण की पटरियों पर ; निजी ट्रेन सेवा के लिए प्रस्ताव आमंत्रित -

रेलवे निजीकरण की पटरियों पर ; निजी ट्रेन सेवा के लिए प्रस्ताव आमंत्रित

Share this News (खबर साझा करें)

नई दिल्ली: केंद्र ने रेलवे के निजीकरण की दिशा में कदम उठाना शुरू कर दिया है और देश में कुल 109 जोडी मार्गों पर निजी सेवाओं को शुरू करने के प्रस्ताव आमंत्रित किए हैं। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने यह जानकारी दी है। देश भर में रेलवे नेटवर्क को कुल 12 समूहों में विभाजित किया गया है। रेलवे एक ही क्लस्टर में इन 109 जोड़ी मार्गों पर निजी ट्रेनें चलाने की कोशिश कर रहा है।

रेलवे निजीकरण

इस निजी ट्रेन में कम से कम 16 कोच होंगे। साथ ही इन ट्रेनों की स्पीड 160 प्रति किलोमीटर रखी जाएगी। इस गति में और वृद्धि होने की संभावना है। इस ट्रेन का रोलिंग स्टॉक एक निजी कंपनी द्वारा किया जाएगा। साथ ही, निजी कंपनियों को इन सभी वाहनों का रखरखाव करना होगा। इन सभी ट्रेनों के लिए आवश्यक गार्ड और मोटरमैन रेलवे से होंगे। निजी क्षेत्र को इसके लिए 30,000 करोड़ रुपये के निवेश की उम्मीद है। केंद्र सरकार आधुनिक तकनीक को बढ़ावा देने के लिए यह कदम उठा रही है और इससे रखरखाव की भारी लागत कम हो रही है। सरकार का कहना है कि इससे ट्रांजिट टाइम भी कम होगा। इसके अलावा, यह देश में बेरोजगारों के लिए रोजगार के नए अवसर पैदा करेगा। यह पहल यात्रियों को उचित सुरक्षा प्रदान करके विश्व स्तरीय सुविधाएं प्रदान करना भी संभव बनाएगी। यह यात्री गाड़ियों को चलाने वाला पहला निजी स्वामित्व वाला रेलवे उपक्रम है।

सभी गाड़ियां भारतीय बनावट की

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर रेलवे के प्रस्ताव के बारे में बताया। क्या खास है कि इन सभी वाहनों का निर्माण भारत में किया जाएगा। जिन कंपनियों को काम से सम्मानित किया जाएगा, उन्हें वित्तपोषण से इसे खरीदना और देखभाल भी करनी होगी ।

रियायत दी जाएगी

कंपनी को 35 वर्षों के लिए सरकार द्वारा रियायत दी जाएगी, जिसके तहत एक निजी कंपनी को रेलवे और बिजली शुल्क को एक निश्चित राशि का भुगतान करना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *