200 स्‍पेशल ट्रेनें 1 जून 2020 से देश भर में चलेंगी

Share this News (खबर साझा करें)
  • 200 स्‍पेशल ट्रेनें 1 जून 2020 से देश भर में चलेंगी
                                   
  • 1 जून से चलने वाली 200 ट्रेनों से पहले दिन 1.45 लाख से भी अधिक यात्री सफर करेंगे                               

  • लगभग 26 लाख यात्रियों ने 01 से 30 जून 2020 तक की अग्रिम आरक्षण अवधि के लिए टिकटों की बुकिंग की है

  • ये सेवाएं श्रमिक स्पेशल ट्रेनों और 12 मई से ही चलाई जा रही 30 स्पेशल एसी ट्रेनों के अलावा होंगी  

  • यात्रियों को ट्रेन रवाना होने से 90 मिनट पहले स्टेशन पहुंचना होगा; केवल कन्‍फर्म/आरएसी टिकट वाले यात्रियों को ही रेलवे स्टेशन में प्रवेश करने और ट्रेन में चढ़ने की अनुमति होगी

  • गृह मंत्रालय के दिशा-निर्देशों के अनुसार सभी यात्रियों की अनिवार्य रूप से जांच की जाएगी और केवल ‘बिना रोग-लक्षण’ वाले यात्रियों को ही ट्रेन में प्रवेश/चढ़ने की अनुमति होगी

दिल्ली: रेल मंत्रालय ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय और गृह मंत्रालय (एमएचए) के साथ परामर्श के बाद घोषणा की है कि भारतीय रेलवे पर कई और रेल सेवाओं को 01 जून 2020 से आंशिक रूप से बहाल किया जाएगा। 1 जून से चलने वाली 200 ट्रेनों से पहले दिन 1.45 लाख से भी अधिक यात्री सफर करेंगे। कल (यानी 01 जून, 2020) भारतीय रेलवे 200 यात्री सेवाओं का परिचालन शुरू करेगी, जैसा कि अनुलग्नक (नीचे दिए गए लिंक) में सूचीबद्ध किया गया है। 

200-special-trains

यात्री ट्रेन सेवाओं की क्रमबद्ध बहाली की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए भारतीय रेलवे कल 200 ट्रेनों का परिचालन शुरू करेगी, जो 01 मई से ही चलाई जा रही मौजूदा श्रमिक स्पेशल ट्रेनों और 12 मई 2020 से ही चलाई जा रही स्पेशल एसी ट्रेनों (30 ट्रेनें) के अलावा होंगी।

ये ट्रेनें नियमित ट्रेनों की तर्ज पर हैं। ये पूरी तरह से आरक्षित ट्रेनें हैं जिनमें एसी और नॉन एसी दोनों ही तरह की श्रेणियां या कोच हें। जनरल (जीएस) कोच में बैठने की जगह आरक्षित है। ट्रेन में कोई भी अनारक्षित कोच नहीं होगा। सामान्य ‘श्रेणी वार किराया’ लिया जाएगा और आरक्षित जीएस कोच (जनरल सिटिंग), जिसे आरक्षित किया जा रहा है, हेतु आरक्षित ट्रेनों के लिए सेकेंड सीटिंग (2एस) किराया लिया जाएगा और सभी यात्रियों को सीट दी जाएगी।

आज सुबह 09.00 बजे, कुल बुकिंग 25,82,671 यात्रियों के लिए थी। इन ट्रेनों के टिकटों की ऑनलाइन बुकिंग आईआरसीटीसी की वेबसाइट या मोबाइल एप के जरिए की जा रही है। भारतीय रेलवे ने 22 मई 2020 से आरक्षण काउंटरों, कॉमन सर्विस सेंटरों (सीएससी) और टिकटिंग एजेंटों के जरिए भी आरक्षण टिकटों की बुकिंग की अनुमति दे दी है।

जैसा कि पहले बताया गया था, भारतीय रेलवे ने 12.05.2020 से शुरू 30 विशेष राजधानी प्रकार की ट्रेनों के लिए निर्देश संशोधित कर दिए हैं और 200 स्पेशल मेल एक्सप्रेस को 01.06.2020 से चलाया जाएगा (कुल 230 ट्रेनें)। सभी 230 स्‍पेशल ट्रेनों की अग्रिम आरक्षण अवधि (एआरपी) को 30 दिन से बढ़ाकर 120 दिन करने का निर्णय लिया गया है। इन सभी 230 ट्रेनों में पार्सल और सामान की बुकिंग की अनुमति होगी। उपर्युक्‍त परिवर्तन 31 मई 2020 की ट्रेन टिकट बुकिंग तिथि के सुबह 08:00 बजे से लागू कर दिए गए हैं। अन्य शर्तें जैसे कि वर्तमान बुकिंग, रोड साइड स्टेशनों के लिए सीटों का तत्काल कोटा आवंटन, इत्‍यादि नियमित समय सारणी वाली ट्रेनों जैसी ही हैं। 29 जून 2020 से तत्काल टिकट की बुकिंग यात्रा की तारीख 30 जून 2020 और उसके बाद के लिए की जा सकती है। इन निर्देशों को भारतीय रेलवे की वेबसाइट www.indianrailways.gov.in  पर भी ट्रैफिक वाणिज्यिक निदेशालय के वाणिज्यिक परिपत्र शीर्षक के तहत देखा जा सकता है।

ट्रेनों का चार्ट तैयार करना और बोर्डिंग:

  1. आरएसी और प्रतीक्षा सूची मौजूदा नियमों के अनुसार ही सृजित की जाएगी।
  2. कोई अनारक्षित (यूटीएस) टिकट जारी नहीं किया जाएगा और यात्रा के दौरान किसी भी यात्री को ट्रेन पर कोई भी टिकट जारी नहीं किया जाएगा।
  3. अनुमति – पूरी तरह से कन्‍फर्म और आरएसी यात्रियों के साथ आंशिक रूप से प्रतीक्षा सूची वाले टिकट धारक (यदि एकल पीएनआर में ही कन्‍फर्म और प्रतीक्षा सूची वाले दोनों ही यात्री है) को भी यात्रा करने की अनुमति है।
  4. अनुमति नहीं – प्रतीक्षा सूची वाले यात्री।
  5. तत्काल टिकट की बुकिंग 29 जून 2020 से ‘यात्रा की तारीख 30 जून 2020 और उसके बाद’ के लिए की जा सकती है।
  6. पहला चार्ट निर्धारित प्रस्थान समय से कम से कम 4 घंटे पहले तैयार किया जाएगा और दूसरा चार्ट निर्धारित प्रस्थान समय से कम से कम 2 घंटे (30 मिनट की मौजूदा व्‍यवस्‍था के विपरीत) तैयार किया जाएगा।
  7. सभी यात्रियों की अनिवार्य रूप से जांच की जाएगी और केवल ‘बिना रोग-लक्षण वाले’ यात्रियों को ही ट्रेन में प्रवेश/चढ़ने की अनुमति होगी।
  1. इन विशेष सेवाओं से सफर करने वाले यात्रि‍यों को निम्नलिखित सावधानियां बरतनी होंगी:
  • 1. सभी यात्रियों को प्रवेश के समय और यात्रा के दौरान फेस कवर/मास्क पहनना होगा।  
  • 2. यात्रि‍यों को ट्रेन रवाना होने से 90 मिनट पहले स्टेशन पहुंचना होगा, ताकि स्टेशन पर उनकी थर्मल स्क्रीनिंग हो सके। केवल उन्‍हीं यात्रियों को ही सफर करने की अनुमति होगी जिनमें कोविड रोग का कोई भी लक्षण नहीं होगा।  

3. यात्रीगण सामाजिक दूरी का पालन करेंगे।

4. अपने गंतव्य पर पहुंच जाने पर सफर करने वाले यात्रियों को उन स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन करना होगा जो गंतव्य राज्य/केंद्र शासित प्रदेश द्वारा निर्धारित किए गए हैं।

टिकट रद्द करना और किराया वापसी नियम:  रेलवे यात्री (टिकट रद्द करना और किराया वापसी) नियम, 2015 लागू होंगे। इसके अलावा, यदि किसी यात्री को काफी बुखार होने या कोविड-19 के लक्षणों के कारण यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाती है, तो वैसी स्थिति में किराया वापसी लागू रहेगी।

यदि स्टेशन पर स्क्रीनिंग के दौरान किसी यात्री को काफी बुखार होने/कोविड-19 इत्‍यादि के लक्षण पाए जाते हैं, तो कन्फर्म टिकट होने के बावजूद उसे यात्रा करने की अनुमति नहीं होगी। ऐसे मामले में यात्री को पूर्ण किराया वापसी निम्नानुसार होगी: –

  1. पीएनआर के आधार पर, जिसमें केवल एक ही यात्री हो।
  2. एक पार्टी टिकट के आधार पर, यदि एक यात्री सफर करने के लिए अयोग्य पाया जाता है और उसी पीएनआर वाले अन्य सभी यात्री भी सफर नहीं करना चाहते हैं तो वैसी स्थिति में सभी यात्रियों के लिए पूर्ण किराया वापसी की अनुमति दी जाएगी।
  3. एक पार्टी टिकट के आधार पर, यदि एक यात्री सफर करने के लिए अयोग्‍य पाया जाता है। हालांकि, उसी पीएनआर वाले अन्य यात्री सफर करना चाहते हैं, तो वैसी स्थिति में उस यात्री का पूरा किराया वापस कर दिया जाएगा जिसे यात्रा करने की अनुमति नहीं दी गई थी।  

उपर्युक्‍त सभी मामलों में, टीटीई प्रमाणपत्र (मौजूदा व्‍यवस्‍था के अनुसार) स्टेशन के प्रवेश/चेकिंग/स्क्रीनिंग स्‍थल पर ही यात्री को जारी कर दिए जाएंगे, जिसमें यह उल्लेख किया जाएगा कि ‘एक या एक से अधिक यात्रियों को बुखार या कोविड- 19 के लक्षण होने के कारण इतने यात्रियों को सफर करने की अनुमति नहीं दी गई है।’

टीटीई प्रमाणपत्र प्राप्त करने के बाद यात्रा की तारीख से लेकर 10 दिनों के भीतर यात्रा नहीं करने वाले यात्रियों की किराया वापसी के लिए टीडीआर दाखिल करना होगा।

खानपान (केटरिंग): कोई भी खानपान शुल्क किराया में शामिल नहीं किया जाएगा। प्री-पेड भोजन बुकिंग, ई-कैटरिंग की व्‍यवस्‍था नहीं होगी। हालांकि, आईआरसीटीसी केवल उन सीमित ट्रेनों में ही भुगतान के आधार पर सीमित मात्रा में खाद्य सामग्री और डिब्बाबंद पेयजल की व्‍यवस्‍था करेगी, जिससे पैंट्री कार जुड़ी होगी। इस आशय की जानकारी यात्रियों को टिकट बुक करते समय ही उपलब्ध करा दी जाएगी। यात्रियों को स्वयं ही अपने लिए भोजन और पेयजल की व्‍यवस्‍था करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। रेलवे स्टेशनों पर सभी स्थिर खानपान और वेंडिंग इकाइयां (बहुपयोगी स्टॉल, बुक स्टॉल, विविध/केमिस्ट स्टाल इत्‍यादि) खुली रहेंगी। फूड प्लाजा और रिफ्रेशमेंट रूम इत्‍यादि होने पर वहां से पके खाद्य पदार्थों को केवल अपने साथ ले जाया जा सकता है, क्योंकि वहां बैठने की व्यवस्था नहीं होगी।

चादर और कंबल: ट्रेन के अंदर कोई चादर, कंबल और पर्दे प्रदान नहीं किए जाएंगे। यात्रियों को सलाह दी जाती है कि वे यात्रा के लिए अपने साथ स्वयं ही चादर-तकिया ले जाएं। इसे ध्‍यान में रखते हुए एसी कोचों के अंदर के तापमान को उपयुक्त रूप से नियंत्रित किया जाएगा।

जोनल रेलवे को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है कि वे रेलवे स्टेशनों पर यथासंभव अलग-अलग प्रवेश और निकास द्वार की व्‍यवस्‍था करें, ताकि यात्रियों को आमने-सामने से आवाजाही न करना पड़े। जोनल रेलवे विभिन्‍न स्टेशनों एवं ट्रेनों पर सामाजिक दूरी के मानक दिशा-निर्देशों द्वारा निर्देशित किए जाएंगे और सुरक्षा, हिफाजत एवं स्वच्छता प्रोटोकॉल का पालन करेंगे।

सभी यात्रियों को ‘आरोग्य सेतु’ एप को डाउनलोड और उपयोग करना होगा। यात्रियों को कम सामान के साथ यात्रा करने की सलाह दी जाती है।

1 जून से चलने वाली 200 ट्रेनों की सूची : क्लिक करें 

PIB

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *