मजदूरों से लेकर महिलाओं तक किसी को क्या मिलेगी मदत ? वित्त मंत्री सीतारमण ने की अहम घोषणा

0
85
कार्यकर्ताओं से लेकर महिलाओं तक किसी को क्या मदद मिल सकती है? वित्त मंत्री सीतारमण ने की अहम घोषणा

कार्यकर्ताओं से लेकर महिलाओं तक किसी को क्या मदद मिल सकती है? वित्त मंत्री सीतारमण ने की अहम घोषणा

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले भारत में कोरोना के प्रसार के बाद लोगों से कर्फ्यू का पालन करने की अपील की थी। उन्होंने तब घोषणा की कि देश लॉकडाउन में जा रहा है। इससे पूरा जीवन बर्बाद हो गया है। आदिवासी लोगों का सवाल असंगठित और रोजमर्रा के काम से था। केंद्र सरकार ने देश के सभी तत्वों के लिए महत्वपूर्ण निर्णय लिए, जिनमें वे भी शामिल हैं । इसकी घोषणा केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने गुरुवार को की।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले भारत में कोरोना के प्रसार के बाद लोगों से कर्फ्यू का पालन करने की अपील की थी। उन्होंने तब घोषणा की कि देश लॉकडाउन में जा रहा है। इससे पूरा जीवन बर्बाद हो गया है। आदिवासी लोगों का सवाल असंगठित और रोजमर्रा के काम से था। केंद्र सरकार ने देश के सभी तत्वों के लिए महत्वपूर्ण निर्णय लिए, जिनमें वे भी शामिल थे। इसकी घोषणा केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और

केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने गुरुवार को की।

अगले तीन महीनों में किसी को क्या मदद मिलेगी?
निर्मला सीतारमण ने करौना का सामना करते हुए देश के सभी घटकों के नागरिकों की मदद करने के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत 1 लाख 70 हजार करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा की।

1) डॉक्टरों, नर्सों, आशा कार्यकर्ता और अन्य कर्मचारियों के लिए 50,000 रुपये का बीमा कवर जो वर्तमान में कोरोनरी संक्रमण को रोकने के लिए आवश्यक सेवा में हैं। इसका फायदा देश के 20000 कर्मचारियों को मिलेगा।

2) प्रधान मंत्री गरीब भोजन योजना के तहत, देश 80 करोड़ गरीबों को राशन प्रदान करेगा। वह अगले तीन महीनों के लिए 5 किलो गेहूं, चावल और 1 किलो दालें मुफ्त में देंगे।

3) प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना के तहत, किसान अप्रैल के पहले सप्ताह में किसानों के खाते में दो हजार रुपये जमा करेंगे। इससे देश के 8 करोड़ 70 लाख किसानों को फायदा होगा।

4) महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना में काम करने वाले मजदूरों को रु182 के बदले प्रति दिन 202 रुपये का वेतन मिलेगा।

5) अगले तीन महीनों में 3 करोड़ गरीब, बूढ़े, विकलांग और गरीब विधवाओं को दो चरणों में 1000 मिलेंगे।

6) जनधन खाता रखने वाली महिलाओं को प्रति माह 500 रु यह राशि अगले तीन महीनों के लिए उपलब्ध होगी।

7) केंद्र सरकार उज्ज्वला योजना के तहत गरीबी रेखा के नीचे रहने वाली 8 करोड़ महिलाओं को अगले 3 महीने के लिए मुफ्त में गैस सिलेंडर प्रदान करेगी।

8) देश में 63 लाख बचत समूह संचालित हैं। इन बचत समूहों को 10 के बजाय 20 ऋण मिलेंगे। इससे 7 करोड़ परिवारों को फायदा होगा।

9) उद्योग जहां कर्मचारियों की संख्या 100 से कम है। उन उद्योगों में काम करने वाले कर्मचारियों का 90% वेतन 15000 रु से कम है। सरकार भी अपने हिस्से का भुगतान करेगी।

10) ईपीएफ की राशि को ईपीएफ में राशि से निकला जा सकता है, जो कि 75% गैर-वापसी योग्य या तीन महीने का वेतन है, जो भी कम हो।

11) निर्माण श्रमिकों के कल्याण के लिए 31000 करोड़ रुपये का फंड। इसमें साढ़े तीन करोड़ मजदूरों का रिकॉर्ड है। केंद्र ने सभी राज्य सरकारों को इस कोष के माध्यम से श्रमिकों को सहायता प्रदान करने का निर्देश दिया है।

12) बैंक, बैं कमित्र, एटीएम सेवा सभी को लॉकडाउन से बाहर रखा गया है। खाते में जमा धनराशि एटीएम से लाभार्थियों को दी जा सकती है। इसे घर आने वाले बैंक मित्र के माध्यम से भी प्राप्त किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here