भारत पेट्रोलियम निजीकरण; बोली प्रक्रिया को पांचवी बार बढ़ाया गया

0

देश की दूसरी सबसे बड़ी तेल उत्पादक कंपनी भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) के निजीकरण के लिए बोली लगाने के लिए सरकार ने डेढ़ महीने का अतिरिक्त समय दिया है। प्रक्रिया को पांचवीं बार बढ़ाया गया है और अंतिम तिथि 16 नवंबर तय की गई है।

भारत पेट्रोलियम निजीकरण; बोली प्रक्रिया को पांचवी बार बढ़ाया गया

केंद्र ने पिछले साल नवंबर में सरकार में अपनी 52.98 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचकर बीपीसीएल के निजीकरण का फैसला किया था। रुची दिखाने के लिए खरीदारों के लिए पहली समय सीमा 7 मार्च, 2020 थी। इस अवधि को आगे बढ़ाकर 2 मई, फिर 13 जून, 31 जुलाई और 30 सितंबर को चार बार बढ़ाया जा चूका है । हालांकि सरकार ने स्पष्टीकरण नहीं दिया है, लेकिन विस्तार का कारण खरीदारों में इसको खरीदने में रुची की कमी बताया जाता है।

बीपीसीएल के शेयर बुधवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में आठ प्रतिशत से 353 रुपये तक गिर गए। कंपनी का कुल बाजार पूंजीकरण 76,500 करोड़ रुपये है। सरकार के स्वामित्व वाले हिस्से का मूल्यांकन 41,400 करोड़ रुपये होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here