कोरोना के परिणाम, देश में 12.2 करोड़ लोग लॉकडाउन के कारण बेरोजगार

0
कोरोना के परिणाम, देश में 12.2 करोड़ लोग लॉकडाउन के कारण बेरोजगार

कोरोना के परिणाम, देश में 12.2 करोड़ लोग लॉकडाउन के कारण बेरोजगार

नई दिल्ली, 6 मई: चीन के वुहान से फैली कोरोना वायरस ने दुनिया भर में कोहराम मचा दिया है। प्रत्येक देश ने इस संक्रमण को रोकने के लिए अपने स्तर पर लॉकडाऊन की कोशिश की। 24 मार्च से भारत बंद भी हो गया है। लॉकडाउन का तीसरा चरण 17 मई तक होगा। कोरोना वायरस और लॉकडाउन के कारण कई व्यवसाय ठप हो गए। जबकि छोटे व्यवसायों को ताले लग गये , कुछ कंपनियों ने टर्नओवर की कमी के कारण कर्मचारियों को कम करने या वेतन का भुगतान नहीं करने का फैसला किया। इस कोरोना ने उस श्रमिक के काम को भी रोक दिया, जिनका का गुजरा काम करनेसेही होता है ।

एक अग्रणी थिंक टैंक के अनुसार, लॉकडाउन ने देश के 12.2 करोड़ लोगों के रोजगार को खत्म कर दिया है। यह पता चला है कि लॉकडाउन में वृद्धि के बाद, बेरोजगारों की संख्या 12.2 करोड़ तक पहुंच गई है। सेंटर ऑफ मॉनिटरिंग इकॉनॉमी ने यह आंकड़े जारी किए गए है।

मजदूरी से कमाने वाले मजदूर , छोटे और मझोले उद्यमों से कमाने वाले मजदूर को भारी नुकसान उठाना पड़ा है। सीएमआई ने यह भी कहा कि लॉकडाउन ने संगठित क्षेत्र जैसे फेरीवालों और निर्माण श्रमिकों को प्रभावित किया है। तेलंगाना में लॉकडाऊन के चौथे चरण को 29 मई तक बढ़ा दिया गया है। देश भर में गृह मंत्रालय द्वारा लॉकडाउन के तीसरे चरण को 17 मई तक बढ़ा दिया गया है। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए और लॉकडाउन बेरोजगारी बढ़ा सकता है, और कई कंपनियां कर्मचारियों को कम करने पर विचार कर रही हैं, इसलिए निकट भविष्य में एक बड़ी बेरोजगारी संकट की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here