‘भगवान हमारे मन में हैं, धार्मिक स्थलों में नहीं’ – एआर रहमान

0
15
'God is in our hearts, not in religious places'

'God is in our hearts, not in religious places'

दिग्गज संगीतकार ए.आर. रेहमान ने खुद को क्वारनटाइन रखने के सरकार के फैसले का पालन करने की अपील लोगों से की। और उन्होने कहा की जागतिक महामारी को मद्दे नजर रखते हुए धार्मिक स्थालोंपर एकट्ठा होना संभ्रम पैदा कर सकता है।

दिल्ली के बेहद संकरे निझाम उद्दीन इलाके के मरकज में 1 से 15 मार्च के दरमियान तबलिक जमात के धार्मिक कार्यक्रम में हजारों की संख्या में लोगों ने भाग लिया था। अब ये ठिकाना देश में covidi – 19 के फैलने का केंद्र बन गया है। इस कार्यक्रम में भाग लेने के बाद अनुयायी भारत के विविध राज्य में वापस लौट गए थे, लेकिन अब इनके संपर्क में आने वाले लोगों को प्राथमिकता से ढुंडा जा रहा है। इन सबको ढुंड कर आयसोलेशन में रखा जाए ऐसे निर्देश केंद्र सरकार ने सभी राज्य सरकारों को दिए हैं।

इसी पाश्वभूमीपर एआर रेहमान ने बुधवार को एक व्टिट किया और लोगों से दयालु और समझदार होने का अवाहन किया। उन्होंने कहा भगवान आपके मन में है इसीलिए धार्मिक स्थलों पर एकठ्ठा होने का और बेवजह बवाल खड़ा करने का यह समय नही है। सरकार की सलह को माने। कुछ हफ्ते खुदको अलग रखने से आपको आगे बहोत साल मिलेंगे।
रहमान ने आगे कहा, वायरस को ना फैलाएँ और बाकी लोगों को भी हानी न पहुंचाए। यह वायरस हमें माध्यम होने की चेतावनी देता है लेकिन हम संक्रमित न होने का विश्वास नही देता। गलत अफवा फैलाने का और डरने का ये समय नही।

रहमान ने देश में अनेक लोगों की जान बचाने के लिए लढ रहे दुनियाभर के आरोग्य कर्मचारियों का आभार व्यक्त किया। 53 वर्षीय रतमान ने कहा यह संदेश दुनिया के सभी डॉक्टर्स, परिचारिका और क्लिनिक में हॉस्पिटल में कार्यरत सभी कर्मचारियों के शोर्य और निस्वार्थ सेवा के लिए आभार व्यक्त करने के लिए है ।सबसे खतरनाक घातक संक्रमण के बिमारी का सामना करने के लिए वो कितने तत्पर हैं यह देख के बहुत खुशी होती है। हमको बचाने के लिए उन्होंने खुदकी जान को दांव पे लगा दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here