भुखमरी के कगार पर खड़ा भारत, मजदूरों के सर्वेक्षण का भीषण सत्य

0

laborers demanding

मुंबई: भारत में लाखों श्रमिक कोरोना संक्रमण के कारण लगभग दो महीनों से भुखमरी के कगार पर हैं। जबकि भोजन और खर्च के लिए नकदी रकम आने वाले दिनों में उन तक नहीं पहुंची है, कोरोना की तुलना में एक बड़ी आपदा के संकेत हैं। यह सावित्रीबाई फुले पुणे विश्वविद्यालय के समाजशास्त्र विभाग द्वारा सेंटर ऑफ लेबर रिसर्च (CLRA), हैबिटेट फोरम और मशाल की मदद से किए गए सर्वेक्षण के अनुसार है। यदि देश को आकार देने वाले और आर्थिक चक्र में तेजी लाने वाले श्रमिकों को जीवित रहना है, तो सरकार को आनाज के गोदाम और तिजोरी खोलनी होगी , यह स्पष्ट है।

देश में लॉकडाऊन के बाद कुछ दिनों के लिए पेट भरने वाले मजदूरों ने किसी तरह से कुछ दिन काट लिये । हालांकि, जो भी जमा रकम थी वो ख़तम हो गई और मालिक ने भी पीठ दिखा दी। इसलिए मजदूर अपने-अपने राज्यों में लौटने के लिए लंबी सड़कों को काटने लगे। वे जहां हैं, वहीं रुके हुए हैं ,उनकी भी परेशानियां बढ़तीही जा रही हैं । सटीक समस्याओं का पता लगाने और समाधान खोजने के लिए 23 अप्रैल से 1 मई तक सर्वेक्षण किया गया था। डॉ. सावित्रीबाई फुले, प्रमुख, समाजशास्त्र विभाग, पुणे विश्वविद्यालय श्रुति तांबे के नेतृत्व में सर्वेक्षण पूरा हुआ।

सर्वेक्षण में उठाए गए मुद्दे शासन, प्रशासन और सामाजिक कार्यों के लिए एक मार्गदर्शक हैं। प्रमुख विशेषताओं में सार्वजनिक वितरण प्रणाली में लचीलापन, इन मजदूरों को खाद्यान्न का तत्काल प्रावधान, जीवन की अन्य आवश्यकताओं के लिए नकदी का भुगतान, अपने गृहनगर में सुरक्षित वापसी की व्यवस्था और लॉकडाउन के बाद खोए हुए रोजगार की वापसी की गारंटी शामिल हैं। यदि निम्नलिखित तथ्य बहुत गहन हैं, तो जमीनी तौर पे निश्चित ही गंभीर और दाहक होंगे । इसलिए, केंद्र और राज्य सरकारों को उनकी सूचना लेनी चाहिए और युद्ध के समानइस समस्या को हल करना चाहिए ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here