‘इस’ तारीख तक कोरोना पर भारत की जीत, शोधकर्ताओं का दावा

0
15
'इस' तारीख तक कोरोना पर भारत की जीत, शोधकर्ताओं का दावा

'इस' तारीख तक कोरोना पर भारत की जीत, शोधकर्ताओं का दावा

नई दिल्ली, 28 अप्रैल: दुनिया भर में कोरोनावायरस का प्रसार दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। भारत में भी, कोरोना 28,000 का आंकड़ा पार कर चुका है। तो, यह संख्या दुनिया भर में 3 मिलियन से अधिक होने की संभावना है। दुनिया भर के देशों ने कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए लॉकडाउन की घोषणा की है। दूसरी ओर, दिनरात वैज्ञानिक कोरोना को हराने के लिए उपाय खोज रहे हैं। इस सब में, सिंगापुर में प्रौद्योगिकी और डिजाइन विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि कोरोना पूरी तरह से 9 दिसंबर तक दुनिया से चला जाएगा।

इतना ही नहीं बल्कि इन शोधकर्ताओं ने यह भी दावा किया है कि भारत में कोरोना का प्रसार पहले ही रुक जाएगा। उन्होंने इसके लिए एक भविष्यवाणी भी की है। शोधकर्ताओं के अनुसार, 26 जुलाई तक भारत के कोरोना-मुक्त होने की संभावना है। एक ओर, यह उन लोगों के लिए अच्छी खबर है, जो कोरोना की वजह से घर में कैद हैं।

अभी सभी के दिमाग में एक ही सवाल है कि कोरोना वायरस कब खत्म होगा? क्या लॉकडाउन रद्द होने के बाद कोरोना वायरस तेजी से प्रसारित होगा? लेकिन अब सिंगापुर यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी एंड डिजाइन के शोधकर्ताओं ने लोगों के सवालों का जवाब दिया है। शोधकर्ताओं ने आर्टिफिशियल इंटेलिजन्सका उपयोग करके डेटा विश्लेषण के माध्यम से इस संभावना का पता लगाया है।

अध्ययन के अनुसार, कोरोना दिसंबर की शुरुआत तक दुनिया के सभी देशों से पूरी तरह से निकल जाएगा ।अध्ययन में यह भी कहा गया है कि कोरोना अमेरिका में 27 अगस्त तक, स्पेन में 7 अगस्त, इटली में 25 अगस्त और भारत में 26 जुलाई तक चलेगा।

चीन की भविष्यवाणी सही निकली

शोधकर्ताओं ने कोरोना विलुप्त होने की तीन भविष्यवाणियां व्यक्त की हैं। यह 97 प्रतिशत, 99 प्रतिशत और जब यह 100 प्रतिशत समाप्त होगा इसकी जानकारी दी गई थी । अनुसंधान प्रत्येक देश की जलवायु और कोरोना की स्थिति, मौतों की संख्या और ठीक होने वाले रोगियों की संख्या पर आधारित है। इस अनुमान के अनुसार, 9 अप्रैल को चीन में कोरोना संक्रमण दूर चला गया था। शोध के अनुसार, कोरोना 30 मई तक 97 प्रतिशत और 17 जून तक 99 प्रतिशत और दुनिया भर में 9 दिसंबर तक 100 प्रतिशत से चला जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here