कोरोनावायरस: कोरोना संकट से लड़ने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी का देशवासियों को मंत्र

0
15
Coronavirus: PM Narendra Modi's countrymen 'mantra' to fight corona crisis

नई दिल्ली: वैश्विक स्तर पर कोरोनरी वायरस के रोगियों की संख्या भारत में भी बढ़ रही है। इस पृष्ठभूमि के खिलाफ, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने आज लोगों के साथ बातचीत की। दुनिया के कई देशों की तरह, नरेंद्र मोदी ने आज भारत के 130 करोड़ नागरिकों के लिए जो कोरोना से दो-दो हाथ करने की कोशिश कर रहे उनको कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण सुझाव दिए हैं, । वैश्विक महामारी से निपटने के लिए क्या कदम उठाना है, इस पर मार्गदर्शन देते हुए उन्होंने कोरोना पर जीत का मंत्र भी दिया है।

कोरोना पर आज कोई दवा या टीका उपलब्ध नहीं है। इस मामले में, हमें संकल्प और धैर्य दोनों से सावधान रहने की जरूरत है। नरेंद्र मोदी ने कहा कि महामारी के प्रभाव को कम करने में संकल्प और संयम बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। साथ ही, नरेंद्र मोदी ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि हम फिट हैं तो दुनिया फिट हैं यही आज का मंत्र है।

“इसलिए,
इस वैश्विक महामारी का मुकाबला करने के लिए दो प्रमुख बातों की आवश्यकता है।

पहला- संकल्प
और
दूसरा- संयम: PM @narendramodi#IndiaFightsCorona”

— PMO India (@PMOIndia) March 19, 2020

आज हमें ये संकल्प लेना होगा कि हम स्वयं संक्रमित होने से बचेंगे और दूसरों को भी संक्रमित होने से बचाएंगे।

साथियों,
इस तरह की वैश्विक महामारी में, एक ही मंत्र काम करता है- “हम स्वस्थ तो जग स्वस्थ”: PM @narendramodi#IndiaFightsCorona

— PMO India (@PMOIndia) March 19, 2020

नरेंद्र मोदी ने रविवार को पूरे देश में ‘जनता कर्फ्यू’ की भी अपील की है। मोदी ने कहा कि 22 मार्च को सुबह 8 बजे से शाम 9 बजे तक कर्फ्यू मनाया जाना चाहिए। मोदी ने देशवासियों के साथ बातचीत के दौरान कहा, “हम इस बात की जांच करें कि हम कोरोना से लड़ने के लिए कितने तैयार हैं।”

“Prime Minister Narendra Modi: If possible, please call at least 10 people every day and tell them about the ‘Janta Curfew’ as well as the measures to prevent #coronavirus”. https://t.co/CU3DoSOVub

— ANI (@ANI) March 19, 2020

मोदी ने देश के संभ्रांत नागरिकों और व्यापारियों से अपील की है। इस संकट के दौरान आपको, आम जनता को, सभी सेवाओं को अनुमति दी जानी चाहिए। विशेष रूप से, इन नागरिकों, श्रमिकों और गरीब सेवा व्यक्तियों के वित्तीय हितों को भी ध्यान में रखा जाना चाहिए। क्योंकि हमने इस अवधि के दौरान सेवा बंद कर दी है तो मोदी ने से श्रमिकों के वेतन में कटौती नहीं करने का आग्रह किया । जैसे आपको और मुझे घर चलाना है , वैसे ही आम नागरिक भी चलाना है। इसलिए मोदी ने व्यवसायियों, उच्च वर्ग के व्यक्तियों और छोटी कंपनियों से उन कंपनी में सेवा करने वालों के वेतन में कटौती नहीं करने का आग्रह किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here