मध्य प्रदेश में सियासी संकट बढ़ा

0
मध्य प्रदेश में सियासी संकट बढ़ा

मध्य प्रदेश में सियासी संकट बढ़ा

राज्यपाल के निर्देश के अनुरूप फ्लोर टेस्ट नहीं हुआ‚ सदन की कार्यवाही २६ तक स्थगित।

विधानसभा अध्यक्ष ने दिया कोरोना वायरस को लेकर केंद्र की गाइड़लाइन का हवाला

भोपाल (वार्ता)। मध्य प्रदेश में अभूतपूर्व सियासी संकट के बीच सोमवार को विधानसभा के बजट सत्र के पहले दिन राज्यपाल लालजी टंडन के निर्देश के अनुरूप ‘फ्लोर टेस्ट’ नहीं हुआ। राज्यपाल के अभिभाषण पढने की औपचारिकता के बाद सदन की कार्यवाही ‘कोरोना’ के मद्देनजर ‘केंद्र सरकार की विभिन्न गाइडलाइन और जनहित’ को ध्यान में रखकर २६ मार्च तक स्थगित कर दी गई। एक अन्य महत्वपूर्ण घटनाक्रम में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राज्यपाल को आज एक पत्र लिखा है जिसमें अनेक न्यायालयीन फैसलों का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने विश्वास व्यक्त किया है कि वह विधि एवं संविधान के अनुरूप ही आगे कार्य करेंगे। राज्यपाल ने मौजूदा हालातों के मद्देनजर दो दिन पहले मध्य रात्र में मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर १६ मार्च को फ्लोर टेस्ट कराने का निर्देश दिया था।

भाजपा की मांग दरकिनारः राज्यपाल के अभिभाषण के बाद विपक्षी दल भाजपा के सदस्यों ने फ्लोर टेस्ट की मांग उठाना चाही लेकिन सदन में अनेक सदस्यों के एक साथ बोलने के कारण अध्यक्ष एनपी प्रजापति ने कार्यवाही स्थगित कर दी। पांच मिनट बाद भाजपा सदस्यों ने फिर अपनी बात रखना चाही लेकिन अध्यक्ष ने कुछ आवश्यक औपचारिकताओं के बाद कोरोना के प्रकोप के मद्देनजर जारी विभिन्न गाइडलाइन और जनहित के चलते सदन की कार्यवाही २६ मार्च तक के लिए स्थगित कर दी।

भाजपा विधायकों की परेड़ः इसके बाद सभी भाजपा विधायक भी बस में सवार हुए और सीधे राजभवन पहुंचे। राजभवन में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान‚ विपक्ष के नेता गोपाल भार्गव और नरोत्तम मिश्रा की मौजूदगी में सभी ने राज्यपाल से मुलाकात की।

विधायकों के दबाव मुक्त होने पर ही फ्लोर टेस्ट

भोपाल (वार्ता)। मध्य प्रदेश में तेजी से बदलते राजनीतिक घटनाक्रमों के बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सोमवार को कांग्रेस के कई विधायकों को बंदी बनाए जाने का आरोप लगाया। उन्होंने राज्यपाल लालजी टंडन को लिखे पत्र में कहा कि कांग्रेस के कई विधायकों को बंदी बना लिया गया है और इस तरह की परिस्थिति में फ्लोर टेस्ट कराए जाने का कोई औचित्य नहीं है

शाह ने की मोदी से मुलाकात

नई दिल्ली: मप्र के हालात पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ चर्चा की। शाह ने सोमवार को प्रधानमंत्री के संसद भवन स्थित कार्यालय में गुजरात में राज्यसभा चुनाव पर भी चर्चा की।

आज कराएं फ्लोर टेस्टः राज्यपाल

भोपाल (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन ने मुख्यमंत्री कमलनाथ को एक बार फिर पत्र लिखकर फ्लोर टेस्ट कराने को कहा। उन्होंने कहा है कि १७ मार्च तक फ्लोर टेस्ट कराएं। फ्लोर टेस्ट नहीं होता है तो यह माना जाएगा कि विधानसभा में आपको बहुमत प्राप्त नहीं है।

मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार को विधानसभा में विश्वास मत हासिल करने का निर्देश देने के मामले में मंगलवार को सुनवाई करेगा। इस बारे में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को याचिका दायर की। शीर्ष अदालत में सोमवार को संबंधित अधिकारी के समक्ष इस मामले की शीघ्र सुनवाई के लिए उल्लेख किया गया है इस याचिका में कहा गया है कि राज्य विधानसभा के अध्यक्ष‚ मुख्यमंत्री और विधानसभा के प्रधान सचिव को इस न्यायालय के आदेश के १२ घंटे के भीतर विधानसभा में शक्ति परीक्षण कराने का निर्देश दिया जाए।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here