रामदेव बाबा करेंगे आईपीएल के लिए 440 करोड़ रुपये का भुगतान?

0
रामदेव बाबा करेंगे आईपीएल के लिए 440 करोड़ रुपये का भुगतान?

नई दिल्ली: आईपीएल के 13 वें सीजन के प्रायोजन से विवो के हटने के बाद बीसीसीआई को एक नए प्रायोजक की तलाश है। इसके लिए दुनिया भर की बड़ी कंपनियों के नामों पर चर्चा की जा रही है। लेकिन अब एक नया नाम सामने आ रहा है।

भारत-चीन तनाव के कारण विवो मुख्य प्रायोजक के रूप में वापस हटना पड़ा । बीसीसीआई ने इसके बाद इसकी घोषणा की। वीवो हर साल बीसीसीआई को 440 करोड़ रुपये का भुगतान करता है। बीसीसीआई और विवो के बीच समझौता 2022 तक वैध था। बड़ा सवाल यह है कि क्या करोना वायरस के दौरान बाजार की स्थिति खराब होने एक साल के लिए बीसीसीआई को वीवो जितनी राशि का भुगतान नइ कंपनी कर पाएगी ?

रामदेव बाबा करेंगे आईपीएल के लिए 440 करोड़ रुपये का भुगतान?

समझा जाता है कि अमेजन, ड्रीम 11, बैजू, रिलायंस जियो जैसी कंपनियां इस साल आईपीएल की प्रतिस्पर्धा में हैं। अब पता चला है कि योग गुरु रामदेव बाबा की पतंजलि कंपनी भी इन कंपनियों के साथ शामिल है। कंपनी ने खुद इस खबर की पुष्टि की है।

इकोनॉमिक टाइम्स के मुताबिक, हम इस साल के आईपीएल के मुख्य प्रायोजन के लिए काम कर रहे हैं। हम पतंजलि को विश्व मंच पर ले जाने की सोच रहे हैं। यही कारण है कि कंपनी आईपीएल को प्रायोजित करने की कोशिश कर रही है, प्रवक्ता एस के तिजारावाला ने कहा।

प्रतियोगिता में कौन कौन

आईपीएल का मौसम और भारत में त्योहारों और समारोहों की अवधि निकट आ रही है। इसलिए, ई-कॉमर्स में अग्रणी अमेजन को आईपीएल प्रायोजन में सबसे आगे माना जाता है। भारतीय टीम की जर्सी को प्रायोजित करने वाली लर्निंग ऐप बायज़ोस भी आईपीएल प्रायोजन की दौड़ में सबसे आगे है। अमेज़ॅन और बायजू के साथ आईपीएल को प्रायोजित करने की प्रतियोगिता में तीसरा नाम ड्रीम 11 है।

बाजार सूत्रों के मुताबिक वीवो के प्रयोजन से हटने के बाद वीवो के रिप्लेसमेंट में आने वाली कंपनी वीवो जितना मूल्य नहीं दे पाएंगी। विवो एक साल के लिए 440 करोड़ रुपये का भुगतान कर रहा था। आने वाली कंपनियां अब 180 करोड़ रुपये तक का भुगतान कर सकती हैं।

बताया गया है कि आईपीएल के प्रायोजन को वापस लेने के बाद दो और टूर्नामेंटों की स्पॉन्सरशिप विवो से वापस ले ली गई है। वीवो ने प्रो कबड्डी लीग और टीवी शो बिग बॉस के अपने प्रायोजन को वापस ले लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here