अंबानी का जलवा ; 58 केंद्रीय सरकारी कंपनियों पर अकेले रिलायंस भारी

0
77

नई दिल्ली: रिलायंस इंडस्ट्रीज और उसके अध्यक्ष मुकेश अंबानी कोरोना काल के दौरान लगभग हर दिन चर्चा में रहे। रिलायंस जियो में दुनिया भर की कंपनियों के निवेश के बाद अंबानी ने कंपनी को कर्ज से मुक्त किया। फिर वह दुनिया के सबसे अमीर लोगों की सूची में पांचवें स्थान पर पहुंच गया। हर दिन कीर्तिमान स्थापित करने वाली रिलायंस ने बाजार पूंजीकरण के मामले में सोमवार को 13.94 लाख करोड़ रुपये का आंकड़ा पार कर लिया।

58 केंद्रीय सरकारी कंपनियों पर अकेले रिलायंस भारी

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में रिलायंस की सभी सूचीबद्ध कंपनियों का 10 प्रतिशत बाजार पूंजीकरण है। इतना ही नहीं, इसका बाजार पूंजीकरण केंद्र सरकार की 58 कंपनियों से अधिक है। रिलायंस के पास ओएनजीसी, एनटीपीसी, कोल इंडिया, इंडियन ऑयल, गेल, हिंदुस्तान पेट्रोलियम, आईआरसीटीसी, रेल विकास निगम लिमिटेड जैसे सार्वजनिक क्षेत्र के दिग्गजों के संयुक्त बाजार पूंजीकरण से अधिक बाजार पूंजीकरण है।

निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग के अनुसार, देश में 58 सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों का कुल बाजार पूंजीकरण 8,66,228.91 करोड़ रुपये है। इनमें से, ONGC का सबसे बड़ा बाजार पूंजीकरण 99,698.64 करोड़ रुपये है। 93,801.57 करोड़ रुपये के बाजार पूंजीकरण के साथ एनटीपीसी दूसरे स्थान पर है। इसके बाद ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया है। इसकी पूंजी 86,635.12 करोड़ है। स्टुटर्स इंडिया लिमिटेड का बाजार पूंजीकरण सिर्फ 179.34 करोड़ रुपये है।

पिछले कुछ महीनों में मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस ने देश के बाहर खुद का नाम कमाया है। ऊर्जा कंपनी के मामले में सईदी के अरामको के बाद रिलायंस दूसरे स्थान पर है। अभी तीन महीने पहले, जियो में बड़े पैमाने पर निवेश शुरू हुआ और कंपनी की स्थिति में सुधार हुआ।

पिछले दो वर्षों में रिलायंस का बाजार पूंजीकरण दोगुना हो गया है। बीएसई पर सूचीबद्ध सभी कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 147.23 लाख करोड़ रुपये है। रिलायंस का 14.38 लाख करोड़ रु. कुल बाजार पूंजीकरण का 9.8 प्रतिशत रिलायंस के पास है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here