दिल्ली के शाहीन बाग आंदोलन को हटाया गया

0
60
दिल्ली के शाहीन बाग आंदोलन को हटाया गया

दिल्ली के शाहीन बाग आंदोलन को हटाया गयानागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ पिछली 15 दिसंबर से प्रदर्शन कर रहे आंदोलनकारियों को पुलिस ने हटा दिया।इसी के साथ दिल्ली और नोएडा जोड़ने वाले मार्ग पर खड़े सभी तंबुओं को पुलिस ने हटाकर शाहिनबाग परिसर को खाली कराया।दिल्ली में कोरोना वायरस का प्रकोप फैल रहा है इस बीच दिल्ली सरकार ने पूरी दिल्ली में लॉक डाउन की घोषणा कर दी है इस बीच कुछ प्रदर्शनकारी अपना आंदोलन शुरू रखे हुए थे।

शाहीन बाग में बैठे प्रदर्शनकारियों को हटाकर उनके तंबू निकाल दिए जाने की जानकारी पुलिस ने दी।कुछ प्रदर्शनकारियों को हिरासत में भी लिया गया है।शाहीन बाग में यह प्रदर्शनकारी पिछले 100 दिनों से नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे।

कोरोना वायरस का संक्रमण देखते हुए प्रदर्शनकारियों को अपने घर लौटने की बार-बार अपील की जा रही थी।आज सुबह 7:00 बजे हमने अपनी कार्रवाई की शुरुआत की।शुरुआत में कुछ लोग यहां के वातावरण को बिगाड़ने की कोशिश कर रहे थे।कुछ लोग सूचनाओं का पालन नहीं कर रहे थे और बार बार बताने पर भी विरोध कर रहे थे इसलिए उनको हिरासत में लिया गया।यह जानकारी यहां के पुलिस आयुक्त देवेश श्रीवास्तव ने दी।और उन्होंने कहा कि इस परिसर में शांति बनाए रखने का हमारा उद्देश्य है। कोरोना वायरस के प्रकोप की पार्श्वभूमि पर कहीं पर भी भीड़ इकट्ठा ना हो इस प्रकार के आदेश है ऐसे आगे उन्होंने बताया।

जिस जगह पर प्रदर्शन हो रहे थे वहां के सभी तंबुओं को हटा दिया गया है।कोरोना वायरस के पार्श्वभूमि पर दिल्ली में धारा 144 लागू कर दी गई है।धारा 144 लागू होने के बावजूद कुछ प्रदर्शनकारी अपनी भूमिका पर डटे थे।आज सुबह भी कुछ महिलाओं का प्रदर्शन जारी था।दिल्ली में धारा 144 लागू होने के बाद शाहीन बाग में बैठी महिलाओं से पुलिस ने अपील की, कि आपका यह आंदोलन आपको यहीं पर रोकना पड़ेगा।कुछ महिलाएं अपील करने के बावजूद हटने को तैयार नहीं थी।इसलिए पुलिस ने अपने बल का इस्तेमाल करते हुए महिलाओं को हटने पर मजबूर कर दिया ऐसे पुलिस ने बताया।

इससे पहले पुलिस ने 31 मार्च तक केवल 4 लोगों को यहां बैठने की इजाजत दी थी।4 से अधिक लोग इस जगह पर दिखने पर उन्हें हिरासत में लिया जाएगा इस प्रकार की आदेश पहले जारी किए जा चुके हैं।और प्रदर्शनकारियों को अलग-अलग बैठने की सूचनाएं बार-बार दी जा चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here