देश में 5 स्थानों पर वैक्सीन का परीक्षण किया जाएगा। सफल परीक्षण के बाद, टीका बाजार में उपलब्ध होगा

0
54

कोरोना वैक्सीन के मानव परीक्षण का तीसरा चरण देश भर में पांच स्थानों पर होगा। यह जानकारी जैव प्रौद्योगिकी विभाग (डीबीटी) की सचिव रेणु स्वरूप ने दी। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी, ज़ायडस कैडिलैक कंपनी और भारत बायोटेक के टीके देश में लगाए जाएंगे। यदि परीक्षण सफल रहा, तो टीका जल्द से जल्द बाजार में उपलब्ध होगा।

देश में 5 स्थानों पर वैक्सीन का परीक्षण किया जाएगा

तीसरा चरण बहुत महत्वपूर्ण है। यह जानकारी देगा कि टीके मरीजों को कैसे प्रभावित करते हैं। यह जानकारी अन्य रोगियों को टीका लगाने से पहले प्राप्त करने की आवश्यकता है। ट्रायल पूरा होते ही वैक्सीन का उत्पादन शुरू हो जाएगा और अंतिम मंजूरी मिल जाएगी। एक बार उत्पादन शुरू होने के बाद, इसे भारत को जरूरत के अनुसार आपूर्ति की जाएगी।

टीका विकसित करने के प्रयास में डीबीटी से जुड़ें

डीबीटी भारत में टीकों के विकास में शामिल है। यह उन सभी कंपनियों और संगठनों के साथ काम कर रहा है जो देश में टीके का निर्माण करते हैं। डीबीटी इसके लिए वित्तीय सहायता और अनुमोदन प्रदान करेगा और साथ ही वितरण नेटवर्क तक पहुंच बनाएगा। सरकार ने छह अन्य साइटें भी स्थापित की हैं, जिनका इस्तेमाल जरूरत पड़ने पर मानव परीक्षणों के लिए किया जाएगा।

पुणे में सीआईआई ने वैक्सीन विकसित करने के लिए चुना

ऑक्सफोर्ड और उसके साथी ने वैक्सीन विकसित करने के लिए पुणे में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (CII) का चयन किया है। CII ने मानव परीक्षण के दूसरे और तीसरे चरण के लिए भारत के कंट्रोलर जनरल ऑफ़ ड्रग्स (DCGI) से अनुमोदन मांगा है। CII दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीन निर्माता है।

हजारों मरीजों पर परीक्षण होंगे

वैक्सीन के पहले दो चरणों में परीक्षण पूरा हो चुका है। इस परीक्षण के परिणाम इस महीने के शोध पत्रिका में प्रकाशित हुए हैं। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के एक परीक्षण ने भी बहुत अच्छे परिणाम दिखाए हैं। पहले चरण में, केवल कुछ लोगों पर परीक्षण किए गए थे। दूसरे चरण में पहले चरण की तुलना में अधिक लोग शामिल थे। अब, तीसरे चरण में, हजारों लोगों पर एक परीक्षण होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here